Yes Bank Crisis News Live Updates In Hindi Rbi Shaktikanta Das Narendra Modi Rahul Gandhi – Yes Bank Live Updates: राहुल ने कहा- ‘यस नहीं, नो बैंक’, आरबीआई गर्वनर ने दिया ये बयान

0
50


खास बातें

वित्तीय संकट से जूझ रहे यस बैंक पर भारतीय रिजर्व बैंक ने पैसा निकालने की ऊपरी सीमा निर्धारित कर दी है। इसके तहत खाताधारक अब यस बैंक से 50 हजार रुपये से ज्यादा रकम नहीं निकाल सकेंगे। निकासी की यह सीमा तीन अप्रैल, 2020 तक लागू रहेगी। इसके अलावा केंद्रीय बैंक ने यस बैंक के निदेशक मंडल के अधिकारों पर रोक लगाते हुए एक महीने के लिए एसबीआई के पूर्व डीएमडी और सीएफओ प्रशांत कुमार की प्रशासक के रूप में नियुक्ति भी कर दी है। यहां पढ़िए पल-पल की अपडेट:

लाइव अपडेट

01:25 PM, 06-Mar-2020

येस बैंक के ग्राहकों के हितों की रक्षा की जाएगी : मुख्य आर्थिक सलाहकार

मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम ने येस बैंक के ग्राहकों के हितों की सुरक्षा का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि बैंक के जमाकर्ताओं का धन सुरक्षित है और बैंक के पुनर्गठन के लिए सभी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ बैठक के बाद सुब्रमण्यम ने संवाददाताओं से कहा कि रिजर्व बैंक ने सही कदम उठाया है। सभी जमाकर्ताओं का धन सुरक्षित है। उन्होंने भरोसा दिलाया कि बैंक के ग्राहकों के हितों की रक्षा की जाएगी। येस बैंक के पुनर्गठन के लिए सभी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है।

 

12:39 PM, 06-Mar-2020

पहले पीएमसी बैंक, अब येस बैंक: चिदंबरम

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने दावा किया, ‘‘भाजपा 6 साल से सत्ता में है। वित्तीय संस्थानों को नियंत्रित और विनियमित करने की उनकी क्षमता उजागर होती जा रही है।’’ उन्होंने सवाल किया, ‘‘पहले पीएमसी बैंक, अब येस बैंक। क्या सरकार बिल्कुल भी चिंतित नहीं है? क्या वो अपनी जिम्मेदारी से बच सकते हैं? क्या अब कतार में कोई तीसरा बैंक है?’’

12:30 PM, 06-Mar-2020

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर साधा निशाना, लिखा ‘नो यस बैंक’

राहुल गांधी ने यस बैंक को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि ‘नो यस बैंक। मोदी और उनके विचारों ने भारत की अर्थव्यवस्था को नष्ट कर दिया है।
 

12:29 PM, 06-Mar-2020

यस बैंक का समाधान जल्दी हो जाएगा: शक्तिकांत दास

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि येस बैंक के संबंध में निर्णय व्यापक पैमाने पर लिया गया, इसका लक्ष्य वित्तीय तंत्र की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक येस बैंक के पुनरोद्धार के लिए बहुत जल्द एक योजना लाएगा।

12:29 PM, 06-Mar-2020

यस बैंक के शेयर में भारी गिरावट

रिजर्व बैंक ने बृहस्पतिवार को संकट में फंसे यस बैंक पर मौद्रिक सीमा लगा दी। इसके तहत खाताधारक अब यस बैंक से 50 हजार रुपये से ज्यादा रकम नहीं निकाल सकेंगे। निकासी की यह सीमा 3 अप्रैल, 2020 तक लागू रहेगी। इस घोषणा के बाद आज यस बैंक का शेयर भारी गिरावट पर खुला। पिछले कारोबारी दिन 36.80 के स्तर पर बंद होने के बाद आज यस बैंक का शेयर 33.15 के स्तर पर खुला। इसके बाद सुबह 11:33 बजे यह 30.85 अंक यानी 83.83 फीसदी की गिरावट के बाद 5.95 के स्तर पर कारोबार कर रहा था।

12:28 PM, 06-Mar-2020

यस बैंक को खरीद सकता है भारतीय स्टेट बैंक, जल्द होगा एलान

सरकार ने भारतीय स्टेट बैंक और अन्य वित्तीय संस्थानों को पूंजी के संकट से जूझ रहे यस बैंक को खरीदने की दिशा में आगे बढ़ने के लिए मंजूरी दे दी है। उच्च स्तरीय सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए कहा कि इस संबंध में जल्द ही कोई घोषणा की जा सकती है। देश के सबसे बड़े ऋणदाता संस्थान एसबीआई की बृहस्पतिवार को मुंबई में बैठक भी हुई, लेकिन यह पता नहीं चल सका कि क्या बैठक के एजेंडे में यस बैंक के अधिग्रहण का मुद्दा था या नहीं।

12:26 PM, 06-Mar-2020

एलआईसी की हो सकती है बड़ी भूमिका

इसके अलावा ऐसी भी खबरें हैं कि सरकार ने अपने स्वामित्व वाली बीमा कंपनी एलआईसी से एसबीआई के साथ मिलकर हिस्सेदारी खरीदने के लिए भी कहा है। एलआईसी के पास पहले से यस बैंक की 8 फीसदी हिस्सेदारी है। कुछ हफ्ते पहले यस बैंक को उबारने से जुड़ी अटकलों पर एसबीआई चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा था, ‘उसे नाकाम नहीं होने दिया जाएगा।’

अगर यह सौदा होता है तो कई साल में ऐसा पहली बार होगा कि एक सरकारी कंपनी, निजी क्षेत्र के किसी यूनिवर्सल बैंक को उबारेगी। वहीं यह आईडीबीआई के बाद दूसरा यूनिवर्सल बैंक होगा, जिसे संकट से उबारने में एलआईसी अहम भूमिका निभाएगा।

12:15 PM, 06-Mar-2020

पूरी रात एटीएम के सामने खड़े रहे यस बैंक के ग्राहक

आरबीआई द्वारा मौद्रिक सीमा निर्धारित करने के बाद से यस बैंक के जमाकर्ताओं को एटीएम से धन निकालने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा। लंबी कतारों में खड़े ग्राहकों को कहीं मशीनें बंद पड़ी मिलीं तो कहीं एटीएम में धन नहीं था। यस बैंक के ग्राहकों की मुसीबत और बढ़ गई जब उन्हें इंटरनेट बैंकिंग प्रणाली के माध्यम से धन स्थानांतरित करने में भी असुविधा झेलनी पड़ी।

12:14 PM, 06-Mar-2020

‘यस नहीं, नो बैंक’ राहुल गांधी का ट्वीट, कहा- मोदी के विचारों ने भारतीय अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया

आरबीआई ने कहा कि यस बैंक लगातार एनपीए की समस्या से जूझ रहा है, जिसके चलते यह फैसला लेना पड़ा है। आरबीआई द्वारा जारी दिशानिर्देशों के मुताबिक, यस बैंक में बचत, चालू या किसी अन्य जमा खाते से एक महीने के दौरान 50 हजार रुपये से ज्यादा धनराशि नहीं निकाली जा सकेगी। इसके अलावा यदि किसी के बैंक में एक से ज्यादा खाते हैं तो भी 50 हजार से ज्यादा धनराशि नहीं निकाली जा सकेगी। दूसरी ओर एसबीआई बोर्ड ने येस बैंक में निवेश के लिए ‘सैद्धांतिक’ स्वीकृति दे दी है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here