People With Disabilities No Need To Buy Ticket From Railway Station, Portal Launched – दिव्यांगों को अब स्टेशन पहुंचकर टिकट लेने की जरूरत नहीं होगी, सुगम्य भारत अभियान के तहत पोर्टल शुरू

0
42


अमर उजाला ब्यूरो, नई दिल्ली।
Updated Sun, 01 Mar 2020 09:40 PM IST

रेलवे टिकट काउंटर
– फोटो : सोशल मीडिया

ख़बर सुनें

सुगम्य भारत अभियान के तहत रेलवे दिव्यांगों को बेहतर यात्रा सुविधा उपलब्ध कराने में जुटा है। कोच और स्टेशनों के डिजाइन इस तरह तैयार किए जा रहे हैं कि उन्हें किसी तरह की परेशानी नहीं हो। इस कड़ी में रेलवे ने दिव्यांगजन-रेल डॉट पोर्टल शुरू किया है। इस पोर्टल पर बुकिंग के बाद स्टेशन पहुंचकर टिकट लेने की जरूरत नहीं होगी।

दिव्यांग अब अपना रियायती टिकट पोर्टल के माध्यम से ले सकेंगे। उत्तर रेलवे के दिल्ली रेल मंडल ने प्रयोग के तौर पर रियायती टिकट बुक करने की सुविधा शुरू कर दी है। यह उन लोगों के लिए अधिक सुविधाजनक होगा, जो रेल टिकट बुक करने के लिए काउंटर पर पहुंचने में कठिनाई का सामना करते हैं।

दिव्यांग सत्यापन, ई-टिकटिंग, आईडी स्मार्ट कार्ड भी ऑनलाइन दस्तावेज जमा कराकर हासिल कर सकेंगे। अभियान के तहत रेलवे ने 1325 स्टेशनों पर ‘मे आई हेल्प यू’ काउंटर लगाए हैं। निर्बाध रूप से स्टेशन में प्रवेश के लिए कम से कम एक रैंप की व्यवस्था 3725 स्टेशनों पर उपलब्ध है। रेलवे ने निर्णय लिया है कि स्टेशनों के भूतल पर कम से कम एक शौचालय की सुविधा हो। 3869 स्टेशनों पर इस तरह की सुविधा मिल रही है।

सुगम्य भारत अभियान के तहत रेलवे दिव्यांगों को बेहतर यात्रा सुविधा उपलब्ध कराने में जुटा है। कोच और स्टेशनों के डिजाइन इस तरह तैयार किए जा रहे हैं कि उन्हें किसी तरह की परेशानी नहीं हो। इस कड़ी में रेलवे ने दिव्यांगजन-रेल डॉट पोर्टल शुरू किया है। इस पोर्टल पर बुकिंग के बाद स्टेशन पहुंचकर टिकट लेने की जरूरत नहीं होगी।

दिव्यांग अब अपना रियायती टिकट पोर्टल के माध्यम से ले सकेंगे। उत्तर रेलवे के दिल्ली रेल मंडल ने प्रयोग के तौर पर रियायती टिकट बुक करने की सुविधा शुरू कर दी है। यह उन लोगों के लिए अधिक सुविधाजनक होगा, जो रेल टिकट बुक करने के लिए काउंटर पर पहुंचने में कठिनाई का सामना करते हैं।

दिव्यांग सत्यापन, ई-टिकटिंग, आईडी स्मार्ट कार्ड भी ऑनलाइन दस्तावेज जमा कराकर हासिल कर सकेंगे। अभियान के तहत रेलवे ने 1325 स्टेशनों पर ‘मे आई हेल्प यू’ काउंटर लगाए हैं। निर्बाध रूप से स्टेशन में प्रवेश के लिए कम से कम एक रैंप की व्यवस्था 3725 स्टेशनों पर उपलब्ध है। रेलवे ने निर्णय लिया है कि स्टेशनों के भूतल पर कम से कम एक शौचालय की सुविधा हो। 3869 स्टेशनों पर इस तरह की सुविधा मिल रही है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here