Home Blog

Around 740 Tonne Ammonium Nitrate Stored In Chennai, Officers On Alert After Beirut Blast – चेन्नई में रखा है 740 टन अमोनियम नाइट्रेट, बेरूत धमाके के बाद सतर्क हुए अधिकारी

0


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चेन्नई
Updated Sat, 08 Aug 2020 12:59 AM IST

बेरूत में हुए धमाके में ध्वस्त हुई इमारत
– फोटो : पीटीआई

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

लेबनान की राजधानी बेरूत में भीषण धमाका जिस खतरनाक रसायन की वजह से हुआ वह रसायन भारी मात्रा में भारत के चेन्नई में भी मौजूद है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चेन्नई सीपोर्ट कस्टम में वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि यहां मनाली में करीब 740 टन अमोनियम नाइट्रेट एक कंटेनर फ्रेट स्टेशन में रखा है। जानकारी के अनुसार अमोनियम नाइट्रेट की इस खेप को साल 2015 में सलेम की एक कंपनी से जब्त किया था, जिसने इसका आयात किया था। 

बता दें कि चार अगस्त की शाम को लेबनान की राजधानी बेरूत में ऐसा विस्फोट हुआ जिसने पूरे शहर को खंडहर में तब्दील कर दिया। बेरूत के बंदरगाह पर हुए धमाके ने पूरे शहर को मलबे में तब्दील कर दिया है। यह धमाका बंदरगाह पर स्थित एक गोदाम में आग लगने की वजह से हुआ जहां साल 2013 से करीब 2750 टन अमोनियम नाइट्रेट असुरक्षित तरीके से रखा था। इस धमाके में 150 से ज्यादा लोगों की जान गई है वहीं हजारों लोग घायल हुए हैं। 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार वरिष्ठ सीमा शुल्क अधिकारियों ने कहा कि ये सीएफएस एक सहायक सीमा शुल्क आयुक्त के प्रशासनिक नियंक्रण में हैं। इनका भंडारण सुरक्षा के सभी मानकों का ध्यान में रखते हुए किया गया है। अधिकारियों ने कहा कि वह जल्द ही इसे नष्ट करने के लिए जरूरी कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा कि इसके आयातक ने गलत जानकारी दी थी कि यह उर्वरक ग्रेड का है लेकिन यह विस्फोटक ग्रेड का था। इसीलिए इसे जब्त किया गया था।

दूसरी ओर तमिलनाडु पुलिस ने इस संबंध में एक अलर्ट भी जारी किया है। इसमें कहा गया है कि यह अमोनियम नाइट्रेट रसायन 37 कंटेनर में रखा गया है। इसके साथ ही खुफिया अधिकारियों को इस संबंध में तत्काल फैसले लेने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही सीमा शुल्क बोर्ड ने एन्नोर,तूतीकोरिन और कराईकाल समेत देश के सभी बंदरगाहों और गोदामों को 48 घंटे के अंदर अगर उनके पास विस्फोटकों का भंडार है तो उसकी जानकारी देने के लिए कहा है। 

अमोनियम नाइट्रेट एक गंधहीन रसायनिक पदार्थ है जिसका उपयोग कई कामों में होता है। सामान्यत इसे दो कार्यों में सर्वाधिक उपयोग किया जाता है। पहला, खेती के लिए बनने वाले उर्वरक में और दूसरा निर्माण या खनन कार्यों में विस्फोटक के तौर पर।

  • अमोनियम नाइट्रेट एक अत्यंत विस्फोटक रसायन है।
  • यह अपने आप में विस्फोटक नहीं है लेकिन अनुकूल परिस्थितियों में ये ज्वलनशील पदार्थ है।
  • आग लगने पर इसमें धमाका होता है और उसके बाद खतरनाक गैसें निकलती हैं जिनमें नाइट्रोजन ऑक्साइड और अमोनिया गैस प्रमुख हैं।
  • क्योंकि यह रसायन बेहद ज्वलनशील होता है, इसलिए इसके रखरखाव के नियम भी काफी कड़े होते हैं।
  • नियम यह है कि अमोनियम नाइट्रेट का भंडार हमेशा फायरप्रूफ गोदाम या स्थान पर होना चाहिए।
  • जहां अमोनियम नाइट्रेट को रखा जाए वहां कोई भी नाला, पाइप या गटर नहीं होना चाहिए।
  • विशेषज्ञों का कहना है कि अगर अमोनियम नाइट्रेट को उचित तरीके से रखा जाए तो यह अन्य रसायनों की तुलना में सुरक्षित है। 
  • हालांकि बड़ी मात्रा में अमोनियम नाइट्रेट लंबे समय तक रखा जाता है तो इसमें विघटन शुरू हो जाता है और आगे चलकर विस्फोटक साबित होता है।
लेबनान की राजधानी बेरूत में भीषण धमाका जिस खतरनाक रसायन की वजह से हुआ वह रसायन भारी मात्रा में भारत के चेन्नई में भी मौजूद है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चेन्नई सीपोर्ट कस्टम में वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि यहां मनाली में करीब 740 टन अमोनियम नाइट्रेट एक कंटेनर फ्रेट स्टेशन में रखा है। जानकारी के अनुसार अमोनियम नाइट्रेट की इस खेप को साल 2015 में सलेम की एक कंपनी से जब्त किया था, जिसने इसका आयात किया था। 

बता दें कि चार अगस्त की शाम को लेबनान की राजधानी बेरूत में ऐसा विस्फोट हुआ जिसने पूरे शहर को खंडहर में तब्दील कर दिया। बेरूत के बंदरगाह पर हुए धमाके ने पूरे शहर को मलबे में तब्दील कर दिया है। यह धमाका बंदरगाह पर स्थित एक गोदाम में आग लगने की वजह से हुआ जहां साल 2013 से करीब 2750 टन अमोनियम नाइट्रेट असुरक्षित तरीके से रखा था। इस धमाके में 150 से ज्यादा लोगों की जान गई है वहीं हजारों लोग घायल हुए हैं। 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार वरिष्ठ सीमा शुल्क अधिकारियों ने कहा कि ये सीएफएस एक सहायक सीमा शुल्क आयुक्त के प्रशासनिक नियंक्रण में हैं। इनका भंडारण सुरक्षा के सभी मानकों का ध्यान में रखते हुए किया गया है। अधिकारियों ने कहा कि वह जल्द ही इसे नष्ट करने के लिए जरूरी कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा कि इसके आयातक ने गलत जानकारी दी थी कि यह उर्वरक ग्रेड का है लेकिन यह विस्फोटक ग्रेड का था। इसीलिए इसे जब्त किया गया था।

दूसरी ओर तमिलनाडु पुलिस ने इस संबंध में एक अलर्ट भी जारी किया है। इसमें कहा गया है कि यह अमोनियम नाइट्रेट रसायन 37 कंटेनर में रखा गया है। इसके साथ ही खुफिया अधिकारियों को इस संबंध में तत्काल फैसले लेने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही सीमा शुल्क बोर्ड ने एन्नोर,तूतीकोरिन और कराईकाल समेत देश के सभी बंदरगाहों और गोदामों को 48 घंटे के अंदर अगर उनके पास विस्फोटकों का भंडार है तो उसकी जानकारी देने के लिए कहा है। 


आगे पढ़ें

क्या है अमोनियम नाइट्रेट…



Source link

Kerala Kozhikode Plane Crash News In Hindi: What Is A Table Top Airport Or Runway – Kozhikode Plane Crash: क्या होता है टेबल टॉप रनवे, जहां दो टुकड़ों में बंट गया एयर इंडिया का विमान

0


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Fri, 07 Aug 2020 10:12 PM IST

कोझिकोड एयरपोर्ट का रनवे
– फोटो : Air India

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

केरल के कोझिकोड में शुक्रवार शाम एक दर्दनाक हादसा हुआ। करीपुर एयरपोर्ट पर एयर इंडिया का एक विमान लैंडिंग करने के दौरान फिसल गया, जिसके बाद दुबई से लौट रही वंदेभारत एक्सप्रेस की इस फ्लाइट के दो टुकड़े हो गए। कोझिकोड का हवाई अड्डा भौगोलिक रूप से “टेबल टॉप” है। मतलब हवाई पट्टी के इर्द-गिर्द खाई है। मौसम खराब था और दृश्यता भी कम थी, शायद यही कारण था कि रनवे चूकने के बाद विमान फिसल गया और इसका अगला हिस्सा पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया।

क्या होता है टेबल टॉप रनवे?

  • टेबल टॉप रनवे अमूमन पठार या पहाड़ के शीर्ष पर होता है
  • इसमें कई बार एक तरफ या कई बार दोनों तरफ गहरी ढाल होती है, जिसके नीचे घाटी होती है
  • ऐसे रनवे दिखने में जितने सुंदर होते हैं, यहां लैंडिंग उतनी ही जोखिम भरी होती है
  • लैंडिंग और टेक ऑफ (उड़ान भरने) दोनों के दौरान खास सावधानी बरतने की जरूरत होती है

 

पायलट की मौके पर ही मौत

कोरोना के अलावा भारी बारिश और भूस्खलन की मार झेल रहे केरल में हुए इस दर्दनाक हादसे में चालक दल के 6 सदस्यों सहित 191 यात्री सवार थे।  हादसे में कई लोग घायल हुए हैं। विमान में सवार यात्रियों में 128 पुरुष, 46 महिलाएं और 10 बच्चे थे। कई लोग गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं। पायलट की मौके पर ही मौत हो गई। मृतकों की संख्या अभी बढ़ने का अनुमान है। फिलहाल राहत कार्य जारी है।

केरल के कोझिकोड में शुक्रवार शाम एक दर्दनाक हादसा हुआ। करीपुर एयरपोर्ट पर एयर इंडिया का एक विमान लैंडिंग करने के दौरान फिसल गया, जिसके बाद दुबई से लौट रही वंदेभारत एक्सप्रेस की इस फ्लाइट के दो टुकड़े हो गए। कोझिकोड का हवाई अड्डा भौगोलिक रूप से “टेबल टॉप” है। मतलब हवाई पट्टी के इर्द-गिर्द खाई है। मौसम खराब था और दृश्यता भी कम थी, शायद यही कारण था कि रनवे चूकने के बाद विमान फिसल गया और इसका अगला हिस्सा पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया।

क्या होता है टेबल टॉप रनवे?

  • टेबल टॉप रनवे अमूमन पठार या पहाड़ के शीर्ष पर होता है
  • इसमें कई बार एक तरफ या कई बार दोनों तरफ गहरी ढाल होती है, जिसके नीचे घाटी होती है
  • ऐसे रनवे दिखने में जितने सुंदर होते हैं, यहां लैंडिंग उतनी ही जोखिम भरी होती है
  • लैंडिंग और टेक ऑफ (उड़ान भरने) दोनों के दौरान खास सावधानी बरतने की जरूरत होती है

 

पायलट की मौके पर ही मौत

कोरोना के अलावा भारी बारिश और भूस्खलन की मार झेल रहे केरल में हुए इस दर्दनाक हादसे में चालक दल के 6 सदस्यों सहित 191 यात्री सवार थे।  हादसे में कई लोग घायल हुए हैं। विमान में सवार यात्रियों में 128 पुरुष, 46 महिलाएं और 10 बच्चे थे। कई लोग गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं। पायलट की मौके पर ही मौत हो गई। मृतकों की संख्या अभी बढ़ने का अनुमान है। फिलहाल राहत कार्य जारी है।



Source link

China Arrested Person Spreading Death News Of Chinese Soldiers In Galvan Valley Conflict – चीन ने गलवां घाटी संघर्ष में चीनी सैनिकों की मौत की खबरें फैलाने वाले शख्स को गिरफ्तार किया

0


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

चीन की पुलिस ने सोशल मीडिया पर ‘अफवाहें फैलाने के मामले’ में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है जिसने लिखा था कि भारत-चीन के बीच सीमा पर संघर्ष के दौरान घटिया सैन्य वाहनों की वजह से पीएलए के जवानों की मौत हुई।

चीन के रक्षा मंत्रालय से संबद्ध चिनामिल डॉट कॉम की खबर के अनुसार, झोऊ उपनाम वाले व्यक्ति को ‘ऑनलाइन अफवाहें फैलाने’ के मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘वीचैट मूमेंट्स’ पर लिखा था कि डोंगफेंग ऑफ-रोड व्हीकल कंपनी लिमिटेड ने जिन सैन्य वाहनों की आपूर्ति की, उनकी खराब गुणवत्ता की वजह से चीन-भारत सीमा संघर्ष में चीनी सैनिकों की मौत हो गयी।

गुरुवार को खबर में कहा गया कि डोंगफेंग कंपनी ने तीन अगस्त को पुलिस से झोऊ की ऑनलाइन पोस्ट के बारे में शिकायत की थी। झोऊ ने दावा किया था कि कंपनी के आंतरिक भ्रष्टाचार की वजह से उसके सैन्य वाहनों की खराब गुणवत्ता के चलते चीनी जवान हताहत हुए।

 पुलिस ने झोऊ को चार अगस्त को गिरफ्तार किया। खबर के अनुसार, ‘उसने अफवाह फैलाने के अपराध को कबूल कर लिया है, उसे पछतावा है और उसने गंभीरता के साथ माफीनामा लिखा है।’

चीन की पुलिस ने सोशल मीडिया पर ‘अफवाहें फैलाने के मामले’ में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है जिसने लिखा था कि भारत-चीन के बीच सीमा पर संघर्ष के दौरान घटिया सैन्य वाहनों की वजह से पीएलए के जवानों की मौत हुई।

चीन के रक्षा मंत्रालय से संबद्ध चिनामिल डॉट कॉम की खबर के अनुसार, झोऊ उपनाम वाले व्यक्ति को ‘ऑनलाइन अफवाहें फैलाने’ के मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘वीचैट मूमेंट्स’ पर लिखा था कि डोंगफेंग ऑफ-रोड व्हीकल कंपनी लिमिटेड ने जिन सैन्य वाहनों की आपूर्ति की, उनकी खराब गुणवत्ता की वजह से चीन-भारत सीमा संघर्ष में चीनी सैनिकों की मौत हो गयी।

गुरुवार को खबर में कहा गया कि डोंगफेंग कंपनी ने तीन अगस्त को पुलिस से झोऊ की ऑनलाइन पोस्ट के बारे में शिकायत की थी। झोऊ ने दावा किया था कि कंपनी के आंतरिक भ्रष्टाचार की वजह से उसके सैन्य वाहनों की खराब गुणवत्ता के चलते चीनी जवान हताहत हुए।

 पुलिस ने झोऊ को चार अगस्त को गिरफ्तार किया। खबर के अनुसार, ‘उसने अफवाह फैलाने के अपराध को कबूल कर लिया है, उसे पछतावा है और उसने गंभीरता के साथ माफीनामा लिखा है।’



Source link

Two Civilians Killed In Pakistani Shelling Eight Pakistani Soldiers Killed In Retaliation Of India – पाकिस्तानी गोलाबारी में दो नागरिकों की मौत, जवाबी कार्रवाई में आठ पाक सैनिक ढेर

0


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जम्मू
Updated Fri, 07 Aug 2020 10:57 PM IST

सीजफायर (सांकेतिक तस्वीर)
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

पाकिस्तानी सेना ने उत्तरी कश्मीर से सटी एलओसी पर संघर्ष विराम का उल्लंघन कर सैन्य चौकियों और रिहायशी इलाकों में गोलाबारी की। कुपवाड़ा जिले के नौगाम, तंगधार, करनाह व माछिल सेक्टर के साथ बारामुला जिले के बोनियार सेक्टर में की गई गोलाबारी में दो नागरिक की मौत हो गई। जबकि कई लोग घायल हो गए। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसके बाद भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान के आठ सैनिक मारे गए हैं। 

पाकिस्तानी सेना ने मंडाकोली, पॉकेट कांप्लेक्स और जर्मन कांप्लेक्स इलाके से शुक्रवार सुबह करीब साढ़े पांच बजे नौगाम सेक्टर में सेना की मंजिल और एमकेआर पोस्ट को निशाना बनाया। इस दौरान किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। 15 सिखलाई और 25 मद्रास के जवानों ने गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया। इसके बाद सुबह करीब पौने दस बजे पाकिस्तानी सेना ने बोनियार सेक्टर में सेना की जाल और शरारत पोस्ट को निशाना बनाया। इसमें भी किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। 

पाकिस्तान नेमीरपुर सेक्टर से करनाह की ओर सुबह करीब साढ़े 11 बजे मोर्टार दागे जो रंगवाड़, चौकिबल और विलगाम के इलाके में गिरे। दोपहर करीब 12 बजे तंगधार सेक्टर में फरकियां गली के करीब संघर्ष विराम का उलंघन किया गया। यहां रिहायशी इलाकों को भी निशाना बनाया गया। इसमें महिला समेत छह लोग घायल हो गए। घायलों की पहचान शमसपोरा के मोहम्मद आरिफ, बागबल्ला कदियान के मोहम्मद याकूब व सैयद रफाकत और रंगवाड़ के जाकिर खान, हमीदा बेगम और नसीर अहमद खान के तौर हुई है। इन सभी को तुरंत नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से गंभीर हालात में महिला समेत दो लोगों को श्रीनगर रेफर किया गया। जहां दोनों की मौत हो गई।

अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) पर पाकिस्तान की तरफ से गोलाबारी कई दिनों से जारी है। वीरवार रात भी लगभग 6 घंटे तक गोलाबारी कर बीएसएफ की चौकी और रिहायशी इलाकों को निशाना बनाया। इस दौरान शिव मंदिर समेत चार घरों को नुकसान पहुंचा है। सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने भी जवाबी कार्रवाई से करारा जवाब दिया। 

पाकिस्तान की 25 चिनाब रेंजर्स ने पप्पू चक पोस्ट से साढ़े दस बजे से सुबह साढे़ चार बजे तक गोलाबारी कर बीएसएफ की चांदवा पोस्ट व उसके साथ लगते चक चंगा और छन्न टांडा गांव में गोलाबारी की। इस दौरान चक चंगा के एक शिव मंदिर की दीवार को नुकसान पहुंचा। इससे लोगों में भारी रोष है। लोगों का कहना है कि अब पाकिस्तान पर बड़ा प्रहार करना जरूरी हो गया है। इसी गांव के मुकेश कुमार, बाल कृष्ण, रणबीर कुमार के घर की दीवार को भी नुकसान हुआ है। उधर, छन्न टांडा के प्रकाश चंद के घर की दीवार भी क्षतिग्रस्त हो गई।

पाकिस्तानी सेना ने उत्तरी कश्मीर से सटी एलओसी पर संघर्ष विराम का उल्लंघन कर सैन्य चौकियों और रिहायशी इलाकों में गोलाबारी की। कुपवाड़ा जिले के नौगाम, तंगधार, करनाह व माछिल सेक्टर के साथ बारामुला जिले के बोनियार सेक्टर में की गई गोलाबारी में दो नागरिक की मौत हो गई। जबकि कई लोग घायल हो गए। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसके बाद भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान के आठ सैनिक मारे गए हैं। 

पाकिस्तानी सेना ने मंडाकोली, पॉकेट कांप्लेक्स और जर्मन कांप्लेक्स इलाके से शुक्रवार सुबह करीब साढ़े पांच बजे नौगाम सेक्टर में सेना की मंजिल और एमकेआर पोस्ट को निशाना बनाया। इस दौरान किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। 15 सिखलाई और 25 मद्रास के जवानों ने गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया। इसके बाद सुबह करीब पौने दस बजे पाकिस्तानी सेना ने बोनियार सेक्टर में सेना की जाल और शरारत पोस्ट को निशाना बनाया। इसमें भी किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। 

पाकिस्तान नेमीरपुर सेक्टर से करनाह की ओर सुबह करीब साढ़े 11 बजे मोर्टार दागे जो रंगवाड़, चौकिबल और विलगाम के इलाके में गिरे। दोपहर करीब 12 बजे तंगधार सेक्टर में फरकियां गली के करीब संघर्ष विराम का उलंघन किया गया। यहां रिहायशी इलाकों को भी निशाना बनाया गया। इसमें महिला समेत छह लोग घायल हो गए। घायलों की पहचान शमसपोरा के मोहम्मद आरिफ, बागबल्ला कदियान के मोहम्मद याकूब व सैयद रफाकत और रंगवाड़ के जाकिर खान, हमीदा बेगम और नसीर अहमद खान के तौर हुई है। इन सभी को तुरंत नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से गंभीर हालात में महिला समेत दो लोगों को श्रीनगर रेफर किया गया। जहां दोनों की मौत हो गई।


आगे पढ़ें

आईबी पर भी दागे गोले, शिव मंदिर समेत पांच घरों को नुकसान



Source link

Air India Flight Crash Brings Back Memories Of 2010 Mangalore Crash That Killed 160 – आग लगती तो और भयावह हो सकता था हादसा, 2010 के मैंगलोर विमान दुर्घटना में गई थी 160 की जान

0


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कोझिकोड
Updated Fri, 07 Aug 2020 11:10 PM IST

कोझिकोड विमान हादसा
– फोटो : एएनआई

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

केरल के कोझिकोड जिले के करीपुर हवाई अड्डे पर एयर इंडिया एक्सप्रेस का एक विमान लैंडिंग करने के दौरान रनवे से फिसल गया और 30 फीट गहरी खाई में गिर गया।  इससे विमान के दो टुकड़े हो गए। दुर्घटना में 14 लोगों की मौत हो गई। वहीं, 123 लोग घायल और 15 लोग गंभीर रूप से बताए जा रहे हैं। इस बात की जानकारी मलप्पुरम एसपी से समाचार एजेंसी एएनआई को दी।
 

हालांकि, प्लेन में आग लगती तो हादसा और भयावह हो सकता था। मगर भगवान का शुक्र रहा कि ऐसा नहीं हुआ। अगर ऐसा होता तो न जाने कितने लोगों की जान जाती। दुबई से आ रहे एयर इंडिया एक्सप्रेस के इस विमान में क्रू सहित 191 लोग सवार थे। विमान में 10 नवजात बच्चे भी थे। 

इस हादसे ने 2010 के मैंगलोर एयरपोर्ट हादसे की याद दिला दी  
इस हादसे ने एक दशक पहले मैंगलोर में हुए इसी तरह के एक विमान हादसे की यादें जहन में जिंदा कर दी। दरअसल, मई, 2010 में एयर इंडिया का एक विमान मैंगलोर एयरपोर्ट पर लैंडिंग के दौरान चट्टान से टकरा गया था। इस हादसे की वजह से तकरीबन 160 लोगों की मौत हो गई थी।

यहां जिस रनवे पर हादसा हुआ था उसे दस दिन पूर्व ही विमानों के लिए खोला गया था। मई 2010 में मैंगलोर में जो विमान हादसा हुआ था उस विमान में क्रू समेत कुल 166 लोग सवार थे। इस हादसे में आठ यात्री आर्श्चयजनक रूप से बच गए थे। 

इस हादसे में शामिल अत्याधुनिक बोइंग 737-800 विमान को 15 जनवरी 2008 को एयर इंडिया के बेड़े में शामिल किया गया था। इस विमान को साइबेरिया के कैप्टन ज्लाटको ग्लूसिया चला रहे थे। उनके पास दस हजार घंटे की उड़ान का अनुभव था। 

विमान पहली टक्कर के बाद ही आग के गोले में तब्दील हो गया था जिसकी वजह से लोग बुरी तरह से झुलस गए थे। इस विमान हादसे में ज्यादातर यात्रियों के शव बुरी तरह से जले हुए ही निकाले गए थे। विमान भी जलकर खाक हो गया था। मैंगलोर का ये हवाई अड्डा वर्ष 2006 से ही सेवा में है।

 

केरल के कोझिकोड जिले के करीपुर हवाई अड्डे पर एयर इंडिया एक्सप्रेस का एक विमान लैंडिंग करने के दौरान रनवे से फिसल गया और 30 फीट गहरी खाई में गिर गया।  इससे विमान के दो टुकड़े हो गए। दुर्घटना में 14 लोगों की मौत हो गई। वहीं, 123 लोग घायल और 15 लोग गंभीर रूप से बताए जा रहे हैं। इस बात की जानकारी मलप्पुरम एसपी से समाचार एजेंसी एएनआई को दी।

 

हालांकि, प्लेन में आग लगती तो हादसा और भयावह हो सकता था। मगर भगवान का शुक्र रहा कि ऐसा नहीं हुआ। अगर ऐसा होता तो न जाने कितने लोगों की जान जाती। दुबई से आ रहे एयर इंडिया एक्सप्रेस के इस विमान में क्रू सहित 191 लोग सवार थे। विमान में 10 नवजात बच्चे भी थे। 

इस हादसे ने 2010 के मैंगलोर एयरपोर्ट हादसे की याद दिला दी  
इस हादसे ने एक दशक पहले मैंगलोर में हुए इसी तरह के एक विमान हादसे की यादें जहन में जिंदा कर दी। दरअसल, मई, 2010 में एयर इंडिया का एक विमान मैंगलोर एयरपोर्ट पर लैंडिंग के दौरान चट्टान से टकरा गया था। इस हादसे की वजह से तकरीबन 160 लोगों की मौत हो गई थी।

यहां जिस रनवे पर हादसा हुआ था उसे दस दिन पूर्व ही विमानों के लिए खोला गया था। मई 2010 में मैंगलोर में जो विमान हादसा हुआ था उस विमान में क्रू समेत कुल 166 लोग सवार थे। इस हादसे में आठ यात्री आर्श्चयजनक रूप से बच गए थे। 

इस हादसे में शामिल अत्याधुनिक बोइंग 737-800 विमान को 15 जनवरी 2008 को एयर इंडिया के बेड़े में शामिल किया गया था। इस विमान को साइबेरिया के कैप्टन ज्लाटको ग्लूसिया चला रहे थे। उनके पास दस हजार घंटे की उड़ान का अनुभव था। 

विमान पहली टक्कर के बाद ही आग के गोले में तब्दील हो गया था जिसकी वजह से लोग बुरी तरह से झुलस गए थे। इस विमान हादसे में ज्यादातर यात्रियों के शव बुरी तरह से जले हुए ही निकाले गए थे। विमान भी जलकर खाक हो गया था। मैंगलोर का ये हवाई अड्डा वर्ष 2006 से ही सेवा में है।

 





Source link

An Air India Express Plane Skidded During Landing At Karipur Airport In Kerala – केरल : करीपुर एयरपोर्ट पर लैंडिंग के दौरान फिसला एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान

0


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कोझिकोड
Updated Fri, 07 Aug 2020 09:02 PM IST

हादसे का शिकार हुआ एयर इंडिया का विमान
– फोटो : एएनआई

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

केरल के कोझिकोड में करीपुर एयरपोर्ट पर एयर इंडिया एक्सप्रेस का एक विमान लैंडिंग करने के दौरान फिसल गया। एयर इंडिया एक्सप्रेस से मिली जानकारी के अनुसार विमान दुबई से 174 यात्रियों को लेकर आ रहा था। विमान में दो पायलट समेत छह क्रू मेंबर भी मौजूद थे। कोंडोट्टी पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक एयर इंडिया की दुबई-कोझिकोड उड़ान (IX-1344) शुक्रवार की शाम 7.45 बजे लैंडिंग करते वक्त फिसल गई।
 

 

केरल के कोझिकोड में करीपुर एयरपोर्ट पर एयर इंडिया एक्सप्रेस का एक विमान लैंडिंग करने के दौरान फिसल गया। एयर इंडिया एक्सप्रेस से मिली जानकारी के अनुसार विमान दुबई से 174 यात्रियों को लेकर आ रहा था। विमान में दो पायलट समेत छह क्रू मेंबर भी मौजूद थे। कोंडोट्टी पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक एयर इंडिया की दुबई-कोझिकोड उड़ान (IX-1344) शुक्रवार की शाम 7.45 बजे लैंडिंग करते वक्त फिसल गई।

 

 





Source link

Army Chief Mm Naravane Asked Field Commanders To Be Prepared For Any Eventuality Amid Tension With China – चीन से तनाव के बीच सेना प्रमुख का फील्ड कमांडरों को निर्देश, हर स्थिति के लिए रहें तैयार

0


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Fri, 07 Aug 2020 08:16 PM IST

सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे (फाइल फोटो)
– फोटो : पीटीआई

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद के बीच भारतीय सेना प्रमुख ने अधिकारियों को हर स्थिति के लिए तैयार रहने का निर्देश दिया है। सूत्रों के अनुसार सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने शुक्रवार को फील्ड कमांडरों से कहा है कि वह किसी भी हालात के लिए तैयार रहें और उच्चतम कार्रवाई की तैयारियां पूरी रखें। 
 

इससे पहले नरवणे आज लखनऊ पहुंचे थे। यहां उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने सभी स्तर के कमांडरों से मुलाकात और बातचीत की। गौरतलब है कि सेना प्रमुख नरवणे दो दिन के तेजपुर (असम) और लखनऊ के दौरे पर हैं। 

सेना ने बयान जारी कर बताया, ‘सेना प्रमुख ने शुक्रवार को लखनऊ छावनी स्थित मुख्यालय मध्य कमान का दौरा किया।’ बयान में बताया गया कि सेना प्रमुख को मध्य कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल आई एस घुमन द्वारा सैन्य आपरेशनल और प्रशासनिक दोनों पहलुओं पर जानकारी दी गई।

बता दें कि भारत और चीन के बीच पिछले कुछ महीनों से सीमा पर तनाव जारी है। दोनों पक्षों के बीच वार्ता के कई दौर हो चुके हैं। दोनों पक्षों के बीच गतिरोध वाले स्थानों से सैनिकों को पीछे हटाने की सहमति बनने के बावजूद चीन अपने सैनिकों को पीछे हटाने में ढिलाई बरत रहा है और कई स्थानों पर सैनिकों की संख्या भी बढ़ा रहा है।

चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद के बीच भारतीय सेना प्रमुख ने अधिकारियों को हर स्थिति के लिए तैयार रहने का निर्देश दिया है। सूत्रों के अनुसार सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने शुक्रवार को फील्ड कमांडरों से कहा है कि वह किसी भी हालात के लिए तैयार रहें और उच्चतम कार्रवाई की तैयारियां पूरी रखें। 

 

इससे पहले नरवणे आज लखनऊ पहुंचे थे। यहां उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने सभी स्तर के कमांडरों से मुलाकात और बातचीत की। गौरतलब है कि सेना प्रमुख नरवणे दो दिन के तेजपुर (असम) और लखनऊ के दौरे पर हैं। 

सेना ने बयान जारी कर बताया, ‘सेना प्रमुख ने शुक्रवार को लखनऊ छावनी स्थित मुख्यालय मध्य कमान का दौरा किया।’ बयान में बताया गया कि सेना प्रमुख को मध्य कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल आई एस घुमन द्वारा सैन्य आपरेशनल और प्रशासनिक दोनों पहलुओं पर जानकारी दी गई।

बता दें कि भारत और चीन के बीच पिछले कुछ महीनों से सीमा पर तनाव जारी है। दोनों पक्षों के बीच वार्ता के कई दौर हो चुके हैं। दोनों पक्षों के बीच गतिरोध वाले स्थानों से सैनिकों को पीछे हटाने की सहमति बनने के बावजूद चीन अपने सैनिकों को पीछे हटाने में ढिलाई बरत रहा है और कई स्थानों पर सैनिकों की संख्या भी बढ़ा रहा है।





Source link

Corona Virus: Indian Hockey Captain Manpreet Singh Found Positive With Three Others – हॉकी कैंप में पहुंचा कोरोना: भारतीय कप्तान मनप्रीत सिंह समेत चार खिलाड़ी मिले पॉजिटिव

0


स्पोर्ट्स डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Fri, 07 Aug 2020 08:35 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

भारतीय हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह समेत चार खिलाड़ियों को बेंगलुरू में भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के राष्ट्रीय खेल उत्कृष्टता केंद्र में राष्ट्रीय हॉकी शिविर में रिपोर्ट करने के बाद कोविड-19 जांच में पॉजिटिव पाया गया। ये खिलाड़ी घर पर ब्रेक के बाद टीम के साथ शिविर के लिए पहुंचे थे। साई की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, ‘साई ने शिविर में रिपोर्ट करने वाले सभी खिलाड़ियों का पहुंचने पर रैपिड कोविड-19 परीक्षण कराना अनिवार्य किया है। पॉजिटिव आए इन सभी खिलाड़ियों ने एक साथ ही यात्रा की थी तो पूरी संभावना है कि घर से बेंगलुरू पहुंचते हुए उनसे वायरस फैला होगा।’

पृथकवास में कप्तान मनप्रीत सिंह
शिविर के लिए रिपोर्ट करने वाले मनप्रीत सहित सभी खिलाड़ी स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार पृथकवास में रह रहे हैं और वायरस के संक्रमण की संभावना को रोकने के लिए उन्हें एहतियाती कदम के अनुसार अलग रखा गया था। मनप्रीत ने साई द्वारा जारी बयान में कहा, ‘मैं साई परिसर में अकेला पृथकवास में हूं और जिस तरह से साई अधिकारियों ने हालात को संभाला, उससे खुश हूं। मैं खुश हूं कि उन्होंने सभी खिलाड़ियों का परीक्षण अनिवार्य किया है। इस कदम से सही समय पर वायरस से संक्रमण का पता चल जाएगा। मैं ठीक हूं और जल्द ही उबरने की उम्मीद है।’ इन पृथक खिलाड़ियों ने शिविर में मौजूद अन्य खिलाड़ियों से बातचीत नहीं की थी। राज्य सरकार और साइ की मानक परिचालन प्रक्रिया का शिविरों में कड़ाई से पालन किया जा रहा है।

सार

सभी चार खिलाड़ियों को रैपिड परीक्षण में नेगेटिव पाया गया था, लेकिन मनप्रीत और सुरेंद्र में बाद में कुछ कोविड-19 के लक्षण दिखाई दिए तो उन्हें और उनके साथ यात्रा करने वाले अन्य 10 खिलाड़ियों के साथ गुरूवार का आरटी-पीसीआर परीक्षण कराया गया, जिसमें ये चार कोविड-19 पॉजिटिव निकले।

विस्तार

भारतीय हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह समेत चार खिलाड़ियों को बेंगलुरू में भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के राष्ट्रीय खेल उत्कृष्टता केंद्र में राष्ट्रीय हॉकी शिविर में रिपोर्ट करने के बाद कोविड-19 जांच में पॉजिटिव पाया गया। ये खिलाड़ी घर पर ब्रेक के बाद टीम के साथ शिविर के लिए पहुंचे थे। साई की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, ‘साई ने शिविर में रिपोर्ट करने वाले सभी खिलाड़ियों का पहुंचने पर रैपिड कोविड-19 परीक्षण कराना अनिवार्य किया है। पॉजिटिव आए इन सभी खिलाड़ियों ने एक साथ ही यात्रा की थी तो पूरी संभावना है कि घर से बेंगलुरू पहुंचते हुए उनसे वायरस फैला होगा।’

पृथकवास में कप्तान मनप्रीत सिंह

शिविर के लिए रिपोर्ट करने वाले मनप्रीत सहित सभी खिलाड़ी स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार पृथकवास में रह रहे हैं और वायरस के संक्रमण की संभावना को रोकने के लिए उन्हें एहतियाती कदम के अनुसार अलग रखा गया था। मनप्रीत ने साई द्वारा जारी बयान में कहा, ‘मैं साई परिसर में अकेला पृथकवास में हूं और जिस तरह से साई अधिकारियों ने हालात को संभाला, उससे खुश हूं। मैं खुश हूं कि उन्होंने सभी खिलाड़ियों का परीक्षण अनिवार्य किया है। इस कदम से सही समय पर वायरस से संक्रमण का पता चल जाएगा। मैं ठीक हूं और जल्द ही उबरने की उम्मीद है।’ इन पृथक खिलाड़ियों ने शिविर में मौजूद अन्य खिलाड़ियों से बातचीत नहीं की थी। राज्य सरकार और साइ की मानक परिचालन प्रक्रिया का शिविरों में कड़ाई से पालन किया जा रहा है।



Source link

T20 World Cup: India Retain Hosting Rights For 2021, Australia To Host 2022 Edition – हिंदुस्तानी सरजमीं पर ही होगा 2021 वर्ल्ड टी-20, ऑस्ट्रेलिया को 2022 की मेजबानी

0


स्पोर्ट्स डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Fri, 07 Aug 2020 07:44 PM IST

ब्रेकिंग न्यूज
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

2021 में होने वाला T20 विश्व कप अपने तय कार्यक्रम के अनुसार भारत में ही खेला जाएगा जबकि जबकि इसके बाद 2022 में इस टूर्नामेंट का अगला संस्करण ऑस्ट्रेलिया में होगा। यह फैसला आज शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संपन्न हुई आईसीसी कीा बैठक में लिया गया।

इस साल 18 अक्तूबर से ऑस्ट्रेलिया में आईसीसी विश्व टी-20 का आयोजन किया जाना था, लेकिन कोरोना महमारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इसे स्थगित कर दिया गया, जिसके बाद ही इंडियन प्रीमियर लीग के आयोजन को लेकर रास्ता साफ हुआ जो यूएई में 19 सितंबर से खेली जाएगी।

अपडेट जारी है…

2021 में होने वाला T20 विश्व कप अपने तय कार्यक्रम के अनुसार भारत में ही खेला जाएगा जबकि जबकि इसके बाद 2022 में इस टूर्नामेंट का अगला संस्करण ऑस्ट्रेलिया में होगा। यह फैसला आज शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संपन्न हुई आईसीसी कीा बैठक में लिया गया।

इस साल 18 अक्तूबर से ऑस्ट्रेलिया में आईसीसी विश्व टी-20 का आयोजन किया जाना था, लेकिन कोरोना महमारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इसे स्थगित कर दिया गया, जिसके बाद ही इंडियन प्रीमियर लीग के आयोजन को लेकर रास्ता साफ हुआ जो यूएई में 19 सितंबर से खेली जाएगी।

अपडेट जारी है…



Source link

Prime Minister Narendra Modi To Launch Submarine Cable Connectivity For Andaman And Nicobar On Aug 10 – पीएम मोदी 10 अगस्त को करेंगे चेन्नई-अंडमान निकोबार समुद्री केबल परियोजना का उद्घाटन

0


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10 अगस्त को चेन्नई व अंडमान-निकोबार द्वीप समूह के बीच सबमेरीन केबल प्रणाली का उद्घाटन करेंगे जिससे यहां बेहतर संर्पक सुविधाएं उपलब्ध हो सकेंगी। बीएसएनएल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

इस प्रणाली के तहत दो स्थानों के बीच दूरसंचार सिग्नलों के आदान-प्रदान के लिए समुद्र में केबल बिछायी जाती है। बीएसएनएल के मुख्य महाप्रबंधक (अंडमान-निकोबार टेलीकॉम) मुरली कृष्णा ने केंद्रशासित प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिखकर कहा, ‘चेन्नई तथा अंडमान और निकोबार द्वीप समूह सबमेरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल कनेक्टिविटी परियोजना की शुरुआत की प्रतीक्षा अब खत्म हो रही है।’

उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस महीने की 10 तारीख को इस परियोजना का उद्घाटन करने वाले हैं।’ मुख्य महाप्रबंधक ने पत्र में अंडमान और निकोबार प्रशासन के अधिकारियों से प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के सुचारू संचालन और विभिन्न् द्वीपों में गुणवत्तापूर्ण दूरसंचार सेवाएं प्रदान करने के लिए नयी प्रणाली शुरू करने में सहयोग देने का अनुरोध किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10 अगस्त को चेन्नई व अंडमान-निकोबार द्वीप समूह के बीच सबमेरीन केबल प्रणाली का उद्घाटन करेंगे जिससे यहां बेहतर संर्पक सुविधाएं उपलब्ध हो सकेंगी। बीएसएनएल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

इस प्रणाली के तहत दो स्थानों के बीच दूरसंचार सिग्नलों के आदान-प्रदान के लिए समुद्र में केबल बिछायी जाती है। बीएसएनएल के मुख्य महाप्रबंधक (अंडमान-निकोबार टेलीकॉम) मुरली कृष्णा ने केंद्रशासित प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिखकर कहा, ‘चेन्नई तथा अंडमान और निकोबार द्वीप समूह सबमेरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल कनेक्टिविटी परियोजना की शुरुआत की प्रतीक्षा अब खत्म हो रही है।’

उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस महीने की 10 तारीख को इस परियोजना का उद्घाटन करने वाले हैं।’ मुख्य महाप्रबंधक ने पत्र में अंडमान और निकोबार प्रशासन के अधिकारियों से प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के सुचारू संचालन और विभिन्न् द्वीपों में गुणवत्तापूर्ण दूरसंचार सेवाएं प्रदान करने के लिए नयी प्रणाली शुरू करने में सहयोग देने का अनुरोध किया।



Source link