Nsa Ajit Doval Says If Police Fails To Enforce Law, Democracy Fails – पुलिस के कानून लागू करने की ‘नाकामी’ से लोकतंत्र विफल होता है : एनएसए डोभाल

0
59


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, गुड़गांव
Updated Thu, 05 Mar 2020 07:01 PM IST

ख़बर सुनें

पुलिस यदि कानून को लागू करने में नाकाम रहती है तो उसकी इस नाकामी से लोकतंत्र विफल होता है। यह बात राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल ने देशभर के युवा पुलिसकर्मियों को गुरुवार को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि आम आदमी को ‘विश्वसनीय और निष्पक्ष’ पुलिस नजर आनी चाहिए, अगर वह कानून लागू करने में नाकाम रहती है तो लोकतंत्र भी नाकाम होता है।

एनएसए डोभाल ने पुलिस अधिकारियों से सुनिश्चित करने के लिए भी कहा कि आम लोगों में यह धारणा है कि पुलिस सिर्फ विशेषाधिकार प्राप्त लोगों की ही सेवा करती है, इसे दूर होना चाहिए। यह धारणा संगइन की छवि खराब करती है।

डोभाल ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के तहत आने वाले पुलिस के एक थिंक टैंक पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो (बीपीआरडी) की ओर से आयोजित कार्यक्रम में कहा कि कानून बनाना किसी लोकतंत्र में सबसे पवित्र काम है। यह किसी साम्राज्यवादी शासक या किसी धार्मिक नेता के मंच से नहीं होता, बल्कि जनता के प्रतिनिधि इसे करते हैं और आप कानून लागू करने वाले लोग हैं। उन्होंने कहा कि यदि आप नाकाम होते हैं तो इससे लोकतंत्र विफल होता है।

पुलिस यदि कानून को लागू करने में नाकाम रहती है तो उसकी इस नाकामी से लोकतंत्र विफल होता है। यह बात राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल ने देशभर के युवा पुलिसकर्मियों को गुरुवार को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि आम आदमी को ‘विश्वसनीय और निष्पक्ष’ पुलिस नजर आनी चाहिए, अगर वह कानून लागू करने में नाकाम रहती है तो लोकतंत्र भी नाकाम होता है।

एनएसए डोभाल ने पुलिस अधिकारियों से सुनिश्चित करने के लिए भी कहा कि आम लोगों में यह धारणा है कि पुलिस सिर्फ विशेषाधिकार प्राप्त लोगों की ही सेवा करती है, इसे दूर होना चाहिए। यह धारणा संगइन की छवि खराब करती है।

डोभाल ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के तहत आने वाले पुलिस के एक थिंक टैंक पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो (बीपीआरडी) की ओर से आयोजित कार्यक्रम में कहा कि कानून बनाना किसी लोकतंत्र में सबसे पवित्र काम है। यह किसी साम्राज्यवादी शासक या किसी धार्मिक नेता के मंच से नहीं होता, बल्कि जनता के प्रतिनिधि इसे करते हैं और आप कानून लागू करने वाले लोग हैं। उन्होंने कहा कि यदि आप नाकाम होते हैं तो इससे लोकतंत्र विफल होता है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here