I Am Ready To Play Any Role To Maintain Peace In The Country Says Rajinikanth – देश में शांति बरकरार रखने के लिए कोई भी भूमिका निभाने को तैयार हूं: रजनीकांत

0
40


ख़बर सुनें

मशहूर अभिनेता रजनीकांत ने कहा है कि वह देश में शांति बनाए रखने के लिए कोई भी भूमिका निभाने के इच्छुक हैं। उन्होंने दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा की निंदा करने के कुछ दिन बाद यह बात कही। रजनीकांत ने रविवार को यहां अपने आवास पर मुसलमानों के एक संगठन के कुछ नेताओं से मुलाकात के बाद ट्विटर पर यह बात कही।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘मैं देश में शांति कायम रखने के लिए कोई भी भूमिका निभाने को तैयार हूं। मैं भी उनसे (मुस्लिम संगठन के नेताओं से) सहमत हूं कि देश का मुख्य उद्देश्य प्रेम, एकता और शांति होना चाहिए।’ इससे पहले 69 वर्षीय अभिनेता ने रविवार को अपने आवास ‘पोस गार्डन’ में मुस्लिम संगठन ‘तमिलनाडु जमात-उल उलेमा सबाई’ के नेताओं से मुलाकात की।

गौरतलब है कि सीएए को लेकर पिछले सप्ताह उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा में भड़क गई थी, जिसमें 46 लोगों की मौत हो गई और 200 लोग घायल हो गए। रजनीकांत ने पिछले सप्ताह दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि दंगों से सख्ती से निपटा जाना चाहिए था।

उन्होंने मोदी सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए कहा था कि अगर हिंसा को नहीं रोका जा सका, तो सत्तापक्ष को इस्तीफा दे देना चाहिए।

मशहूर अभिनेता रजनीकांत ने कहा है कि वह देश में शांति बनाए रखने के लिए कोई भी भूमिका निभाने के इच्छुक हैं। उन्होंने दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा की निंदा करने के कुछ दिन बाद यह बात कही। रजनीकांत ने रविवार को यहां अपने आवास पर मुसलमानों के एक संगठन के कुछ नेताओं से मुलाकात के बाद ट्विटर पर यह बात कही।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘मैं देश में शांति कायम रखने के लिए कोई भी भूमिका निभाने को तैयार हूं। मैं भी उनसे (मुस्लिम संगठन के नेताओं से) सहमत हूं कि देश का मुख्य उद्देश्य प्रेम, एकता और शांति होना चाहिए।’ इससे पहले 69 वर्षीय अभिनेता ने रविवार को अपने आवास ‘पोस गार्डन’ में मुस्लिम संगठन ‘तमिलनाडु जमात-उल उलेमा सबाई’ के नेताओं से मुलाकात की।

गौरतलब है कि सीएए को लेकर पिछले सप्ताह उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा में भड़क गई थी, जिसमें 46 लोगों की मौत हो गई और 200 लोग घायल हो गए। रजनीकांत ने पिछले सप्ताह दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि दंगों से सख्ती से निपटा जाना चाहिए था।

उन्होंने मोदी सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए कहा था कि अगर हिंसा को नहीं रोका जा सका, तो सत्तापक्ष को इस्तीफा दे देना चाहिए।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here