Govt Summon Iran Ambassador Over Zarif Comment On Delhi Violence, Says Not Interfere In Our Matter – ईरान के बयान पर भारत की फटकार, कहा- हमारे अंदरुनी मामले में दखल न दें

0
55


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Tue, 03 Mar 2020 12:18 PM IST

विदेश मंत्री एस जयशंकर और उनके ईरानी समकक्ष जवाद जरीफ (फाइल फोटो)
– फोटो : ANI

ख़बर सुनें

दिल्ली में पिछले दिनों हुई सांप्रदायिक हिंसा पर ईरान ने टिप्पणी करते हुए इसकी निंदा की। जिसपर भारतीय विदेश मंत्रालय ने ईरान के राजदूत अली चेगेनी को तलब किया और ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ द्वारा की गई टिप्पणी को लेकर कड़ा विरोध जाहिर किया। सूत्रों के अनुसार सरकार ने ईरान को दो टूक कहा है कि वह हमारे अंदरुनी मामलों में दखल न दे।
 

जवाद जरीफ ने की थी दिल्ली हिंसा की निंदा

ईरान ने आधिकारिक तौर पर दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा पर टिप्पणी की थी। उसके विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ ने भारतीय मुसलमानों पर हुई संगठित हिंसा की निंदा करते हुए अधिकारियों को इस बेफिजूल की घटनाओं को रोकें। जरीफ ने सोमवार को ट्विटर पर लिखा, ‘ईरान भारतीय मुसलमानों के खिलाफ हुई संगठित हिंसा की निंदा करता है। शताब्दियों से ईरान भारत का दोस्त रहा है। हम भारतीय अधिकारियों से अनुरोध करते हैं कि वे सभी भारतीयों की भलाई सुनिश्चित करें और इस तरह की बेफिजूल की घटनाओं को रोकें। आगे का पथ शांतिपूर्ण संवाद और कानून के शासन में निहित है।’

दिल्ली में पिछले दिनों हुई सांप्रदायिक हिंसा पर ईरान ने टिप्पणी करते हुए इसकी निंदा की। जिसपर भारतीय विदेश मंत्रालय ने ईरान के राजदूत अली चेगेनी को तलब किया और ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ द्वारा की गई टिप्पणी को लेकर कड़ा विरोध जाहिर किया। सूत्रों के अनुसार सरकार ने ईरान को दो टूक कहा है कि वह हमारे अंदरुनी मामलों में दखल न दे।

 

जवाद जरीफ ने की थी दिल्ली हिंसा की निंदा

ईरान ने आधिकारिक तौर पर दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा पर टिप्पणी की थी। उसके विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ ने भारतीय मुसलमानों पर हुई संगठित हिंसा की निंदा करते हुए अधिकारियों को इस बेफिजूल की घटनाओं को रोकें। जरीफ ने सोमवार को ट्विटर पर लिखा, ‘ईरान भारतीय मुसलमानों के खिलाफ हुई संगठित हिंसा की निंदा करता है। शताब्दियों से ईरान भारत का दोस्त रहा है। हम भारतीय अधिकारियों से अनुरोध करते हैं कि वे सभी भारतीयों की भलाई सुनिश्चित करें और इस तरह की बेफिजूल की घटनाओं को रोकें। आगे का पथ शांतिपूर्ण संवाद और कानून के शासन में निहित है।’





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here