Coronavirus Is Likely To Affect India 348 Million Dollar Trade – भारतीय अर्थव्यवस्था पर दिखा कोरोनावायरस का असर, 34.8 करोड़ डॉलर का व्यापार हो सकता है प्रभावित

0
68


ख़बर सुनें

कोरोनावायरस की महामारी से भारत का 34.8 करोड़ डॉलर का व्यापार प्रभावित होने की आशंका है संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार कोरोनावायरस वजह से आर्थिक तौर पर प्रभावित होने वाले शीर्ष 15 देशों में भारत भी शामिल है। इस वायरस के प्रकोप का असर चीन के विनिर्माण उद्योग पर पड़ा है जिसकी वजह से वैश्विक व्यापार प्रभावित हुआ है।

विकास और व्यापार पर संयुक्त राष्ट्र के सम्मेलन (अंकटाड) ने बुधवार को यह रिपोर्ट प्रकाशित की है। इसके मुताबिक कोरोनावायरस की वजह से चीन के विनिर्माण क्षेत्र को धक्का लगा है। इससे दुनियाभर की आपूर्ति श्रृंखलाओं के निर्यात में 50 अरब डॉलर की कमी आने की आशंका है। इसकी वजह से मशीनरी, वाहन और संचार उपकरण विनिर्माण क्षेत्र सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं।

रिपोर्ट के अनुसार कोरोनावायरस के प्रकोप से यूरोपीय संघ की अर्थव्यवस्था पर 15.6 अरब डॉलर का, अमेरिका पर 5.8 अरब डॉलर, जापान पर 5.2 अरब डॉलर, दक्षिण कोरिया पर 3.8 अरब डॉलर, ताइवान पर 2.6 अरब डॉलर और वियतनाम पर 2.3 अरब डॉलर का प्रभाव पड़ने की आंशंका है।

भारत उन शीर्ष 15 देशों में शामिल है जिसकी अर्थव्यवस्था पर कोरोनावायरस का प्रभाव हो रहा है। इससे देश का 34.8 करोड़ डॉलर का व्यापार प्रभावित होने की आशंका है। हालांकि भारत के व्यापार पर पड़ने वाला प्रभाव यूरोपीय संघ, अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया से कम है। कोरोनावायरस के चलते इंडोनेशिया का भी 31.2 करोड़ डॉलर का व्यापार प्रभावित होने का अनुमान है।

रिपोर्ट के अनुसार कोरोनावायरस का सबसे ज्यादा प्रभाव भारत के रसायन क्षेत्र पर 12.9 करोड़ डॉलर, कपड़ा क्षेत्र पर 6.4 करोड़ डॉलर, वाहन क्षेत्र पर 3.4 करोड़ डॉलर, इलेक्ट्रिक मशीनरी क्षेत्र पर 1.2 करोड़ डॉलर, चर्म उत्पाद क्षेत्र पर 1.3 करोड़ डॉलर, धातु एवं धात्विक उत्पाद क्षेत्र पर 2.7 करोड़ डॉलर और फर्नीचर क्षेत्र पर 1.5 करोड़ डॉलर पड़ने की आशंका है।

कोरोनावायरस की महामारी से भारत का 34.8 करोड़ डॉलर का व्यापार प्रभावित होने की आशंका है संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार कोरोनावायरस वजह से आर्थिक तौर पर प्रभावित होने वाले शीर्ष 15 देशों में भारत भी शामिल है। इस वायरस के प्रकोप का असर चीन के विनिर्माण उद्योग पर पड़ा है जिसकी वजह से वैश्विक व्यापार प्रभावित हुआ है।

विकास और व्यापार पर संयुक्त राष्ट्र के सम्मेलन (अंकटाड) ने बुधवार को यह रिपोर्ट प्रकाशित की है। इसके मुताबिक कोरोनावायरस की वजह से चीन के विनिर्माण क्षेत्र को धक्का लगा है। इससे दुनियाभर की आपूर्ति श्रृंखलाओं के निर्यात में 50 अरब डॉलर की कमी आने की आशंका है। इसकी वजह से मशीनरी, वाहन और संचार उपकरण विनिर्माण क्षेत्र सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं।

रिपोर्ट के अनुसार कोरोनावायरस के प्रकोप से यूरोपीय संघ की अर्थव्यवस्था पर 15.6 अरब डॉलर का, अमेरिका पर 5.8 अरब डॉलर, जापान पर 5.2 अरब डॉलर, दक्षिण कोरिया पर 3.8 अरब डॉलर, ताइवान पर 2.6 अरब डॉलर और वियतनाम पर 2.3 अरब डॉलर का प्रभाव पड़ने की आंशंका है।

भारत उन शीर्ष 15 देशों में शामिल है जिसकी अर्थव्यवस्था पर कोरोनावायरस का प्रभाव हो रहा है। इससे देश का 34.8 करोड़ डॉलर का व्यापार प्रभावित होने की आशंका है। हालांकि भारत के व्यापार पर पड़ने वाला प्रभाव यूरोपीय संघ, अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया से कम है। कोरोनावायरस के चलते इंडोनेशिया का भी 31.2 करोड़ डॉलर का व्यापार प्रभावित होने का अनुमान है।

रिपोर्ट के अनुसार कोरोनावायरस का सबसे ज्यादा प्रभाव भारत के रसायन क्षेत्र पर 12.9 करोड़ डॉलर, कपड़ा क्षेत्र पर 6.4 करोड़ डॉलर, वाहन क्षेत्र पर 3.4 करोड़ डॉलर, इलेक्ट्रिक मशीनरी क्षेत्र पर 1.2 करोड़ डॉलर, चर्म उत्पाद क्षेत्र पर 1.3 करोड़ डॉलर, धातु एवं धात्विक उत्पाद क्षेत्र पर 2.7 करोड़ डॉलर और फर्नीचर क्षेत्र पर 1.5 करोड़ डॉलर पड़ने की आशंका है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here