Coronavirus China Pollution Clear Amid Slowdown Nasa Images Show – कोरोनावायरस से सुधरी चीन की हवा, नासा ने जारी की तस्वीर, कहा- कम हुआ प्रदूषण

0
53


वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, बीजिंग
Updated Sun, 01 Mar 2020 12:56 PM IST

चीन में प्रदूषण में गिरावट
– फोटो : BBC/NASA

ख़बर सुनें

कोरोनावायरस से प्रभावित चीन में प्रदूषण की मात्रा में भारी गिरावट देखी गई है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक सैटेलाइट इमेज जारी कर कहा है कि चीन में आर्थिक मंदी के कारण प्रदूषण की मात्रा कम हुई है। 

नासा के इस चित्र में चीन के प्रमुख शहरों के ऊपर नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के गिरते स्तर को दर्शाया गया है। नासा ने 2019 और 2020 के पहले दो महीनों की तुलना की है।

नासा के वैज्ञानिकों ने कहा कि नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के स्तर में कमी मोटर वाहनों के कम चलने और वुहान-शंघाई जैसे औद्योगिक शहर में आर्थिक गतिविधियां कम होने के कारण हुई है। 

नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर के एक वायु गुणवत्ता शोधकर्ता फी ली ने एक बयान में कहा कि मैंने पहली बार ऐसा देखा है कि एक क्षेत्र में किसी विशेष कारण से वहां की वायु गुणवत्ता में सुधार आया है। 

उन्होंने कहा कि 2008 में आर्थिक मंदी के दौरान नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के स्तर में गिरावट देखी थी, लेकिन उस समय प्रदूषण की मात्रा में आई कमी आज की अपेक्षा बहुत कम थी।

बता दें कि कोरोनावायरस के कारण शनिवार शाम तक चीन सहित दुनियाभर में मृतकों की संख्या 2,969 पहुंच गई। वहीं, 86,275 लोग संक्रमित हैं। चीन में मरीज घटे हैं, लेकिन दुनियाभर में बढ़ रहे हैं। हालांकि 39,781 लोग इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं। 

कोरोनावायरस से प्रभावित चीन में प्रदूषण की मात्रा में भारी गिरावट देखी गई है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक सैटेलाइट इमेज जारी कर कहा है कि चीन में आर्थिक मंदी के कारण प्रदूषण की मात्रा कम हुई है। 

नासा के इस चित्र में चीन के प्रमुख शहरों के ऊपर नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के गिरते स्तर को दर्शाया गया है। नासा ने 2019 और 2020 के पहले दो महीनों की तुलना की है।

नासा के वैज्ञानिकों ने कहा कि नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के स्तर में कमी मोटर वाहनों के कम चलने और वुहान-शंघाई जैसे औद्योगिक शहर में आर्थिक गतिविधियां कम होने के कारण हुई है। 

नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर के एक वायु गुणवत्ता शोधकर्ता फी ली ने एक बयान में कहा कि मैंने पहली बार ऐसा देखा है कि एक क्षेत्र में किसी विशेष कारण से वहां की वायु गुणवत्ता में सुधार आया है। 

उन्होंने कहा कि 2008 में आर्थिक मंदी के दौरान नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के स्तर में गिरावट देखी थी, लेकिन उस समय प्रदूषण की मात्रा में आई कमी आज की अपेक्षा बहुत कम थी।

बता दें कि कोरोनावायरस के कारण शनिवार शाम तक चीन सहित दुनियाभर में मृतकों की संख्या 2,969 पहुंच गई। वहीं, 86,275 लोग संक्रमित हैं। चीन में मरीज घटे हैं, लेकिन दुनियाभर में बढ़ रहे हैं। हालांकि 39,781 लोग इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं। 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here