British Hacker Breaks Into Cctv Cameras Of Gurugram Based Scammers – ब्रिटिश हैकर ने भारत में माइक्रोसॉफ्ट के फर्जी कॉल सेंटर का किया खुलासा, Cctv में कैद किए कारनामे

0
37


ख़बर सुनें

एक ब्रिटिश हैकर ने गुरुग्राम में फर्जी तरीके से चल रहे एक कॉल सेंटर का सीसीटीवी कैमरा हैक कर लिया है। इसके अलावा उसने करीब 70 हजार फोन कॉल को भी रिकॉर्ड किया है। हैकर का नाम जिम ब्राउनिंग है और उसी ने इस हैकिंग के बारे में बीबीसी को बताया है। जिम ब्राउनिंग ने कॉल सेंटर से सीसीटीवी फुटेज को अपने यूट्यूब चैनल पर भी अपलोडज किया है।

जिम ब्राउनिंग ने गुरुग्राम में माइक्रोसॉफ्ट के नाम पर चल रहे फर्जी कॉल सेंटर के सीसीटीवी कैमरे को हैक करके पूरे तीन महीने तक अध्ययन किया और उसके बाद फुटेज को बीबीसी को सौंपा है। बीबीसी की रिपोर्ट में बताया गया है कि दिल्ली से सटे गुरुग्राम में मौजूद कॉल सेंटर का एक ठग क्रिस लॉसन के नाम से लोगों से बात करता था और बताता था कि वह सैन जोस, कैलिफोर्निया से बोल रहा है।

बीबीसी को मिले सीसीटीवी फुटेज के मुताबिक ग्रुरुग्राम का स्कैमर ब्रिटेन के एक शख्स से फोन पर क्रिस लॉसन के नाम से बात कर रहा है। इस दौरान स्कैमर ने ब्रिटेन के शख्स (पीड़ित) से उसके कंप्यूटर को ठीक करने के लिए 1,295 पाउंड यानी करीब 1,21,250 रुपये की मांग करता है। इस पर पीड़ित शख्स स्कैमर से कहता है कि वह डिप्रेशन में है और उसे दिल का दौरा पड़ सकता है। इसके बाद स्कैमर कहता है कि तुम क्यों रो रहे हो, तुम एक अच्छे आदमी हो।

हैकर का कहना है कि वह दुनिया का दिखाना चाहता था कि स्कैमर कैसे लोगों को चूना लगाते हैं। हैकर ने दावा किया है कि ग्रुरुग्राम में एक ऑफिस में बैठकर ये स्कैमर्स माइक्रोसॉफ्ट के तकनीकी सहायता स्टाफ के रूप में काम कर रहे थे। वे यूजर्स के सिस्टम पर फर्जी पॉप अप मैसेज चेतावनी के रूप में भेजते थे।

बीबीसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि ब्रिटेन को स्कैमर्स हर महीने लगभग 21 मिलियन यानी 1,53,85,96,500 रुपये का चूना लगाते हैं। इसके लिए स्कैमर्स बैंकों, कंप्यूटर कंपनियों, खुदरा विक्रेताओं और यहां तक कि सरकार से होने का दिखावा करते हैं।

एक ब्रिटिश हैकर ने गुरुग्राम में फर्जी तरीके से चल रहे एक कॉल सेंटर का सीसीटीवी कैमरा हैक कर लिया है। इसके अलावा उसने करीब 70 हजार फोन कॉल को भी रिकॉर्ड किया है। हैकर का नाम जिम ब्राउनिंग है और उसी ने इस हैकिंग के बारे में बीबीसी को बताया है। जिम ब्राउनिंग ने कॉल सेंटर से सीसीटीवी फुटेज को अपने यूट्यूब चैनल पर भी अपलोडज किया है।

जिम ब्राउनिंग ने गुरुग्राम में माइक्रोसॉफ्ट के नाम पर चल रहे फर्जी कॉल सेंटर के सीसीटीवी कैमरे को हैक करके पूरे तीन महीने तक अध्ययन किया और उसके बाद फुटेज को बीबीसी को सौंपा है। बीबीसी की रिपोर्ट में बताया गया है कि दिल्ली से सटे गुरुग्राम में मौजूद कॉल सेंटर का एक ठग क्रिस लॉसन के नाम से लोगों से बात करता था और बताता था कि वह सैन जोस, कैलिफोर्निया से बोल रहा है।

बीबीसी को मिले सीसीटीवी फुटेज के मुताबिक ग्रुरुग्राम का स्कैमर ब्रिटेन के एक शख्स से फोन पर क्रिस लॉसन के नाम से बात कर रहा है। इस दौरान स्कैमर ने ब्रिटेन के शख्स (पीड़ित) से उसके कंप्यूटर को ठीक करने के लिए 1,295 पाउंड यानी करीब 1,21,250 रुपये की मांग करता है। इस पर पीड़ित शख्स स्कैमर से कहता है कि वह डिप्रेशन में है और उसे दिल का दौरा पड़ सकता है। इसके बाद स्कैमर कहता है कि तुम क्यों रो रहे हो, तुम एक अच्छे आदमी हो।

हैकर का कहना है कि वह दुनिया का दिखाना चाहता था कि स्कैमर कैसे लोगों को चूना लगाते हैं। हैकर ने दावा किया है कि ग्रुरुग्राम में एक ऑफिस में बैठकर ये स्कैमर्स माइक्रोसॉफ्ट के तकनीकी सहायता स्टाफ के रूप में काम कर रहे थे। वे यूजर्स के सिस्टम पर फर्जी पॉप अप मैसेज चेतावनी के रूप में भेजते थे।

बीबीसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि ब्रिटेन को स्कैमर्स हर महीने लगभग 21 मिलियन यानी 1,53,85,96,500 रुपये का चूना लगाते हैं। इसके लिए स्कैमर्स बैंकों, कंप्यूटर कंपनियों, खुदरा विक्रेताओं और यहां तक कि सरकार से होने का दिखावा करते हैं।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here