Bhim Army Chief Will Declare A New Party On March 15. – भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर 15 मार्च को करेंगे पार्टी का एलान, यूपी के कई बड़े चेहरे होंगे साथ

0
53


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ
Updated Mon, 02 Mar 2020 02:29 PM IST

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर
– फोटो : amar ujala

ख़बर सुनें

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने यूपी के अगले विधानसभा चुनाव को लेकर तैयारी शुरू कर दी है। चंद्रशेखर 15 मार्च को राजनीतिक पार्टी की घोषणा करेंगे। उन्होंने सोमवार को सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर से मुलाकात की।

उन्होंने लखनऊ पुलिस पर घंटाघर में चल रहे आंदोलन में शामिल न होने देने का आरोप लगाया है। चंद्रशेखर ने कहा कि उनका संगठन सीएए, एनआरसी व एनपीआर के खिलाफ चलाए जा रहे आंदोलनों की देश भर में अगुवाई करेगा।

चंद्रशेखर ने डालीबाग स्थित विशिष्ट अतिथि गृह में पत्रकारों को बताया कि उनके लखनऊ जिलाध्यक्ष अंकित धानुक की मां की तबियत खराब होने पर उनसे मिलने उनके घर जाना चाहते थे। वहीं, एनआरसी के खिलाफ घंटाघर में बड़ी संख्या में बहनें आंदोलन पर हैं। वह आंदोलन को ताकत देने घंटाघर जाना चाहते थे, पर पुलिस ने कानून-व्यवस्था का हवाला देकर वहां जाने की इजाजत नहीं दी।

चंद्रशेखर ने कहा कि सीएए, एनपीआर व एनआरसी के खिलाफ चल रहे आंदोलन में अब एससी, एसटी व ओबीसी बड़ी भूमिका निभाएंगे। चंद्रशेखर ने बताया कि 15 मार्च को राजनीतिक पार्टी का एलान किया जाएगा। उस दिन तमाम बड़े चेहरे साथ नजर आएंगे।

उन्होंने बताया कि बसपा के पूर्व जोनल कोआर्डिनेटर रामलखन चौरसिया, बहुजन वालंटियर फोर्स के पदाधिकारी रहे अशोक कुमार चौधरी व लखनऊ महानगर कमेटी के पूर्व उपाध्यक्ष इजहारुल हक को संगठन में शामिल किया गया है।

बसपा के पूर्व एमएलसी सुनील चित्तौड़ सहित बसपा से निष्कासित कई अन्य नेताओं व पदाधिकारियों ने भी चंद्रशेखर से मुलाकात की है।

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने यूपी के अगले विधानसभा चुनाव को लेकर तैयारी शुरू कर दी है। चंद्रशेखर 15 मार्च को राजनीतिक पार्टी की घोषणा करेंगे। उन्होंने सोमवार को सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर से मुलाकात की।

उन्होंने लखनऊ पुलिस पर घंटाघर में चल रहे आंदोलन में शामिल न होने देने का आरोप लगाया है। चंद्रशेखर ने कहा कि उनका संगठन सीएए, एनआरसी व एनपीआर के खिलाफ चलाए जा रहे आंदोलनों की देश भर में अगुवाई करेगा।

चंद्रशेखर ने डालीबाग स्थित विशिष्ट अतिथि गृह में पत्रकारों को बताया कि उनके लखनऊ जिलाध्यक्ष अंकित धानुक की मां की तबियत खराब होने पर उनसे मिलने उनके घर जाना चाहते थे। वहीं, एनआरसी के खिलाफ घंटाघर में बड़ी संख्या में बहनें आंदोलन पर हैं। वह आंदोलन को ताकत देने घंटाघर जाना चाहते थे, पर पुलिस ने कानून-व्यवस्था का हवाला देकर वहां जाने की इजाजत नहीं दी।


आगे पढ़ें

एससी, एसटी व ओबीसी निभाएंगे बड़ी भूमिका





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here